मुफ्त आयुर्वेदिक परामर्श उपलब्ध है, Whatsapp chat द्वारा परामर्श लेने के लिए - क्लिक करें। 

Orders above ₹1299 are eligible for free Delivery. Hurry up!!

वात के रोग क्या है और क्यों होते हैं इनकी पहचान और नियंत्रण

हमारा शरीर पंचतत्वों से मिलकर बना है जिन्हें अग्नि, वायु, पृथ्वी, जल और आकाश कहा जाता है। इन पंचतत्वों में से वायु और आकाश तत्व वायु दोष के कारक हैं। चरक संहिता के अनुसार वायु दोष ही शरीर में पाचक अग्नि बढ़ाता है। इसका मुख्य स्थान पेट और आंत में है। शरीर में प्राण, अपान, … Continue reading Blog

वात के अनबैलेंस होने से होने वाले रोग

एक सामान्य व्यक्ति के शरीर में तीन प्रवृत्तियां होती हैं, वात, पित्त और कफ। आयुर्वेद  में इनको त्रिदोष कहा जाता है। आमतौर पर हम अपने खान – पान, रहन सहन, अपनी लाइफस्टाइल आदि से इन तीनों दोषों को नियंत्रण में रखते हैं। किन्तु आजकल एक आम इंसान की लाइफस्टाइल इतनी बदल गई है कि उसे … Continue reading Blog

Body booster for gym-takers

हम विषमुक्त भारत पेश करते हैं Body booster for gym-takers. यह पैकेज विशेष रूप से उन व्यक्तियों के लिए है जो आकर्षक शरीर प्राप्त करने के लिए दैनिक आधार पर जिम में अपना बहुमूल्य समय बिताते हैं। इस पैकेज में हमने आयुर्वेदा के उन प्राकृतिक टेस्टेस्टेरोन बूस्टर्स को शामिल किया है जो स्टेरॉयड की तरह … Continue reading Blog

उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) समस्या और समाधान

सामान्य रक्तचाप 100-140 mmHg सिस्टोलिक (उच्चतम-रीडिंग) और 60-90 mmHg डायस्टोलिक (निचली-रीडिंग) की सीमा के भीतर होता है। उच्च रक्तचाप तब उपस्थित होता है यदि यह 90/140 mmHg पर या इसके ऊपर लगातार बना रहता है। हाई ब्लड प्रेशर कई तरह की जानलेवा बीमारी का कारण भी बन सकता है, जैसे हाइपरटेंशन स्ट्रोक, दिल के दौरे, … Continue reading Blog

थायराइड समस्या और समाधान

थायरायड आज एक व्यापक समस्या बन गई है। एक स्टडी के मुताबिक, पुरुषों की तुलना में महिलाओं में थायराइड विकार दस गुना ज्यादा होता है। इसका मुख्य कारण महिलाओं में ऑटोम्यून्यून की समस्या ज्यादा होना है। आयुर्वेद के अनुसार, वात, पित्त व कफ के असंतुलन के कारण थायरॉइड संबंधित रोग होता है। जब शरीर में … Continue reading Blog

आंवला क्या है, आंवला के फायदे, उपयोग और औषधीय गुण

आंवला क्या है? (What is Amla?) आंवला यानि आयुर्वेद में अमृतफल या धात्रीफल। काष्ठौषधि  और रसौषधि इन दोनों तरह की औषधि में आंवला का इस्तेमाल किया जाता है। यहां तक कि आंवला को रसायन द्रव्यों में सबसे अच्छा माना जाता है यानि कहने का मतलब ये है कि जब बाल बेजान और रूखे-सूखे हो जाते … Continue reading Blog